कश्मीर के कुलगाम में छिपे दो आतंकियों को भारतीय सेना ने किया ढेर, मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद

सुरक्षाबलों को कुलगाम जिले के मंजगाम इलाके में कुछ आतंकवादियों को छिपे होने की सूचना मिली थी। इसके बाद सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरु किया। इसी तलाशी अभियान के दौरान सुरक्षाबलों का आंतकियों से सामना हुआ तो आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियाँ चलाना शुरु कर दिया।कश्मीर के कुलगाम में छिपे दो आतंकियों को भारतीय सेना ने किया ढेर, मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद

जम्मू-कश्मीर में कुलगाम सेक्टर के मंजगाम इलाके में सोमवार (25 मई, 2020) सुबह सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुए मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार गिराया गया है। इस ऑपरेशन को सेना की 34 आरआर, सीआरपीएफ और कुलगाम पुलिस द्वारा अंजाम दिया गया है। इसी बीच कुलगाम तथा शोपियाँ जिलों में हिसंक प्रदर्शनों के मद्देनजर प्रशासन ने माबाईल इंटरनेट सेवा बंद कर दी है।

आईजी कश्मीर विजय कुमार ने बताया कि मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया है। इलाके में तलाशी अभियान जारी है। मारे गए आतंकियों की शिनाख्त अभी नहीं हुई है।

जानकारी के मुताबिक, सुरक्षाबलों को कुलगाम जिले के मंजगाम इलाके में कुछ आतंकवादियों को छिपे होने की सूचना मिली थी। इसके बाद सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरु किया। इसी तलाशी अभियान के दौरान सुरक्षाबलों का आंतकियों से सामना हुआ तो आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियाँ चलाना शुरु कर दिया।

बताया जा रहा है कि आतंकी दस्ता खुर गाँव के एक घर में छुपे थे और वहीं से उन्होंने फायरिंग शुरू की थी। उसके बाद सुरक्षाबलों ने भी मोर्चा संभालते हुए दो आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया और आगे की तलाशी में जुटी हैं।

बता दें जम्मू-कश्मीर में आतंकी लगातार घुसपैठ और आतंकी साजिशों को अंजाम देने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन भारतीय जवान उन्हें मुँहतोड़ जवाब देकर मौत के घाट उतार रहे हैं।

गौरतलब है अभी हाल ही में डाउनटाउन इलाके में सुरक्षाबलों ने हिजबुल मुजाहिद्दीन के 2 आतंकियों को मार गिराया था। जिसमें 1 आतंकी अलगाववादी संगठन तहरीक-ए-हुर्रियत के प्रमुख मोहम्मद अशरफ सहराई का बेटा जुनैद भी था। जुनैद हिजबुल मुजाहिद्दीन का शीर्ष कमांडर भी था। उस एनकाउंटर के बाद सुरक्षाबलों ने मौके से कई हथियार और गोला बारुद भी जब्त किए थे।

पिछले दो हफ्तों में कश्मीर में सुरक्षाबलों को कई बड़ी कामयाबी मिली है। 6 मई को जहाँ सुरक्षाबलों ने पुलवामा में हिजबुल के कश्मीर कमांडर रियाज नायकू को मार गिराया था। वहीं, इसके बाद 16 मई की रात हुए डोडा में हुए एनकाउंटर में खोत्रा गाँव में ताहिर के होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद सुरक्षाबलों की कार्रवाई में 17 मई को वह भी मारा गया।

Signup for Free Website